शुरू से सब शुरू करते है

Sachin Bhandari

चलो यूँ करते हैं
शुरू से सब शुरू करते हैं।

तकरारों को भूल कर
शिकवों को मिटा कर
फिर से दोस्ती करते हैं
शुरू से सब शुरू करते हैं।

टूटी हिम्मत को समेट कर
उम्मीदों को फिर से जगा कर
एक बार और कोशिश करते हैं
शुरू से सब शुरू करते हैं।

नए पात्र गढ़ते हैं
नयी कहानी लिखते हैं
आओ न साथ बैठ कर कुछ नया सोचते हैं
शुरू से सब शुरू करते हैं।

हार के सिलसिले को तोड़ते हैं
पिछले से सीख नया करते हैं
आओ चलो फिर से खेलते हैं
शुरू से सब शुरू करते हैं।

चल मेरे मन उठ
बस तू और मैं ही हैं संग
अपनी हिम्मत को साथ लेकर
शुरू से सब शुरू करते हैं।।

Sachin Bhandari


Sachin Bhandari

About the author

.

Leave a comment: