मैं एक अजीब औरत हूँ

Pooja Priyamvada

मैं वो अजीब औरत हूँ
जिसे दुनिया में सबसे पहले इश्क़ हुआ
अपनी भूरी आँखों से
जिसने ज़रूरी नहीं समझा कभी भी
छुपाना अपने जिस्म या रूह को
या उन दोनों की चाहनाओं को

मैं वो अजीब औरत हूँ
जिसे कभी पसंद नहीं था अपना नाम
लेकिन उसने कभी बदला नहीं
जिसने चूमीं दरवेशों की चौखटें
रूह के नरम लबों से बिना छुए ही
और हर बच्चे में एक बुद्ध देखा

मैं वो अजीब औरत हूँ
जिसने कभी नहीं रखी
रिश्तों में शर्तें,कसमें
और हर बार लौट जाने दिया
हर महबूब को
दोबारा लौटने के वायदे के बगैर

मैं वो अजीब औरत हूँ
जिसने अपने दिल की सारी सुर्ख नरमी
और अपनी रूह की तमाम ख्वाहिशें
लिख दी एक अनलिखी वसीयत में
उसके नाम जिसने भी मोहब्बत से
मेरा नाम लिया मैं वो अजीब औरत हूँ
जिसने हमसफ़र होना कबूल किया
और फिर चलती रही अकेले ही
बिना पीछे मुड़े उसे देखने के लिए
जो राह बदल चुका

Pooja Priyamvada

मैं वो अजीब औरत हूँ
जिसने माफ़ कर दिया
अपने उन अजन्मी औलादों को भी
जिन्होंने इंकार कर दिया मेरी कोख को
बख्शना अपनी मुस्कराहट
और फिर भी बिना माँ होने के अहम् के
उनकी नन्ही हथेलियों में रख दी
अपनी सारी दुआएँ मैं वो अजीब औरत हूँ
जो मर कर भी ज़िन्दा रही
दर्द जितना बढ़ा बढ़ाती रही उसका हौंसला
उतनी बड़ी मुस्कराहट से
जिसने नदियों के घिसे हुए
गोल पत्थरों में क़ायनात देख ली
अपने ग़म पर कभी न बहाये दो अश्क़ लेकिन
किसी अजनबी के अनजान दुःख के लिए
महबूब-ए -इलाही से शिकायतें हज़ार कीं

मैं वो अजीब औरत हूँ
जो चाहती है किसी समंदर केआगोश में दफ़न होना
कि जो मंदिरों में पूजी जाती हैं
या कब्रों में दफ़्न हैं
जिनके लिए घर बनाये हैं
शायरी लिखी है दुनिया ने
वो तो आम अच्छी औरतें हैं

मैं एक अजीब औरत हूँ

About the author

.

Leave a comment: