एक दिन नदी में राख की तरह बह गया

Vimal Kumar

एक दिन मैं और थोड़ा सा जी गया
एक दिन थोडा सा बारिश में भीग गया

एक दिन धूप निकल आयी मेरे आँगन में
एक दिन मैं मरने से भी बच गया

एक दिन मैं धुआं बन गया था
एक दिन तो कुआँ बन गया था
एक दिन में सुलगती रात था
एक दिन मैं दहकती आग था
एक दिन मैं जलने से बच गया

एक दिन बर्फ की तरह पिघलने लगा
एक दिन शाम की तरह ढलने लगा
एक दिन तुम्हारा हाथ पकड़
बच्चे की तरह चलने लगा
एक दिन इतनी तेज़ आंधी आयी कि सब कुछ उड़ा ले गयी

एक दिन मैं पते की तरह झरने से बच गया

एक दिन मैं किसी की आवाज़ था
एक दिन मैं बजता हुआकोई साज़ था
एक दिन एक छिपा हुआ एक राज़ था
कोई भेद खोले इस से पहले

एक दिन आईने के सामने अपना सच उस से कह गया

मरने की घड़ी थी मेरे सामने
किस क़र्ज़ में डूबा था इस तरह
एक दिन तुम्हे प्यार करते करते रह गया

एक दिन तो खूब जलसा हुआ अपने घर में
एक दिन एक किले की तरह ढह गया

एक दिन बहुत उम्मीद थी जिन्दगी से
एक दिन नदी में राख की तरह बह गया .