देव भूमि उत्तराखण्ड में नववर्ष चैत्र नवरात्र साधना

सर्वदलीय गौरक्षा मंच

सर्वदलीय गौरक्षा मंच के राष्ट्रिय अध्यक्ष ठाकुर जयपाल सिंह ”नयाल सनातनी” ने आज प्रेस विज्ञप्ति में बताया की देव भूमि उत्तराखण्ड के अल्मोड़ा जिल्ले में पहली बार भव्य राम लीला, कृष्ण लीला का मंचन वृन्दावन के रासलीला मण्डली द्वारा 8 अप्रेल चैत्र नवरात्र प्रतिपदा से 16 अप्रेल 2016 महा दश्मी तक होगा। जिसमे ब्रह्मचारी संत श्री ज्ञानानन्द जी महाराज व्यास पीठ पर विराजमान होकर भगवती माता एवं गौ माता की मानव को  मुक्त कर देने वाली दिव्य कतः का रसपान कराएँगे। संत श्री ज्ञानानन्द जी महाराज लगभग 14 वर्ष तक पथमेड़ा में स्वामी दत्त शरणानन्द जी महाराज के महान गौ कार्य में अपनी सेवा दिए है, अब हल्दी घाटी की पुण्य भुमि ”श्रीनाथद्वारा ” मे एक कुटीया बना कर तपश्या रत हैं। सिर्फ भगवती जगतजननी गौमाता और श्रीमद भागवत की कथा हेतु ही बहार निकलते है।

सनद रहे श्रीनाथद्वारा पुष्टिमार्गीय वैष्‍णव सम्‍प्रदाय की प्रधान (प्रमुख) पीठ है। इस 9 दिवसीय देव कार्य में हल्द्वानी नैनीताल स्थित कार्यकर्म की मुख्य प्रायोजक ‘श्री गिरधर गोपाल गौशाला समिति’ अल्मोड़ा जिल्ले में भी एक नये गौशाला का भूमि पूजन ( शिलान्यास ) वरिष्ठ संतों के पावन सानिंध्य में रखा गया है। जिसमे देश भर के अनेक संतों का आगमन सुनिश्चित है।  नित्य ही 9 दिनों तक यज्ञं-हवन, रुद्रा अभिषेक और संतों के आशीष वचनों का कार्यकर्म भी है। इस पूरे देव कार्य का आयोजन स्थानीय 14 गावों की समिति ‘देव भूमि उत्तराखण्ड रामलीला कमेटी’ है। इस अवसर पर भव्य गौ-जनजागरण यात्रा, कलश यात्रा एवं नित्य भव्य झांकी का आयोजन भी है। कथा की पूर्णाहुति के अगले दिन से 3 दिवसीय देव भूमि के 5 शक्ति पीठो के दर्शन, सरयू तट पर श्री बागेश्वर नाथ के दर्शन, जमीन के निचे पाताल भुवनेशवर के दिव्य दर्शन, कौशानी से नगाधिराज के दर्शन ,गरुड़,बैजनाथ,एवं ज्योतिर्लिंग जागेश्वर नाथ के दर्शन पूजन भी मुख्य है।

 इस कार्यकर्म हेतु स्थानीय रामलीला कमेटी एवं मुख्य संयोजक ठाकुर जयपाल सिंह ”नयाल सनातनी” ने देश भर के गौ-गोपाल प्रेमियों को एक बार सेवा का अवसर देने की प्रार्थना की है।

.