हमारी दुनिया — Anand Kumar

​Anand Kumar

​ये कविता एक प्रयास है असमानता के दुनिया भर के कुछ उदाहरणों को साथ लेते हुए। इसे पढ़े तब कल्पना करें की कोई अश्वेत या दलित या महिला कुछ कहना चाह रहे हैं या जिन्होंने भी समानता के लिए कुछ किया या सोचा,  उनकी सोच कैसी रही होगी, बदले की और किस तरह के बदले की।

कविता के तकनीकी पहलुओं में गड़बडियो के लिए माफ़ी चाहता हूँ, पहला प्रयास है। आशा है इसमें आपको बताये गये तीनो लोग, अश्वेत दलित व महिला मिल जायेंगे। कविता मे हुई भूल चूक के लिए माफ़ी।

​हमारी दुनिया

​तुम्हारी दुनिया में न मैं था न थे सपने मेरेपीढ़ी दर पीढ़ी दफ़्न कर रहे थे तुम निशां मेरेहक़, सम्मान और आवाज़ छीन चुके थे तुमरोटी,पानी और ज़मीन भी बीन चुके थे तुमअफ़्रीका से उठा बाज़ारों में बेचाश्रम को मेरे तुमने खूब नोचागर्म तेल से नहला रहे थेशहरों से भगा रहे थेऔर इसी बीचअपने ग्रंथों में भीमेरे वजूद को अपनी दुनिया के लिए भद्दा बता रहे थे तुम।

घर में कैद कियाया छिपा के रख लिया  कमतर हुँ ये गाये जा रहे थे तुमकमर तोड़ दी और आशा भीपर छिपाने को परदे बहुत सुनहरे लगाये जा रहे थे तुमबस यूँ कहुँ की जाने किस आदर्श पे चलकेन जाने किसकी दुनिया बसा रहे थे तुम।

पर मेरी दुनिया थोड़ी अय्याश औरतुम्हारे आदर्शों को ठेंगा दिखने वाली होगीकैद न हो कोईपीछे न रह जाये कोईफिर कोई अपने घरों से उजाड़ा न जायेप्रेम की हवा पे पहरा न लगाया जाये  धर्म के आगे कोई बहरा न हो जायेकुछ ऐसी ही बातों की मटकी फिर न टूटेइसकी गारन्टी देने वाली होगीमेरी दुनिया थोड़ी अय्याश औरआदर्शों को ठेंगा दिखाने वाली होगी।

तुमने जो सब करने से रोका मुझेजैसा मेरा वजूद सोचा तुमनेमैं तुमसे जी भरके बदला लूंगाजैसा किया उसके उलट कर दूंगा।अपने हक़ को तो तुमसे लड़ूंगा हीतुम्हारे हक की भी बात करूँगाबोलना भुलाया तुमने मेरामैं तुम्हारा बोलना न भूलने दूंगान रहना इस ग़लत फ़हमी में की सहूँगा अबपर तुम्हे भी सहने नहीं दूंगामैं तुमसे जी भरके बदला लूंगा।

विज्ञानं साहित्य और कला के आगे किसी को आने नहीं दूंगाखुद को सिखाऊंगा सीखूंगा गिरूंगा उठूंगा फिर से लिखूंगापर इस बार किसी को किसी का वजूद कमतर न लिखने दूंगाअब इस दुनिया से जी भर के बदला लूंगा।

माना कुछ पुरानी बातें भी लिख दी हैसुधरे है हालात काफ़ीपर ये भी सच है कि अभी चलना है और दूर और काफ़ीतुम्हारी दुनिया में मैं न थापर हमारी दुनिया मै ऐसा न होगा।

Anand Kumar

Tagged . Bookmark the permalink.

28 Responses to हमारी दुनिया — Anand Kumar

  1. संजीव says:

    सरल शब्दों में गहरी बात, सुंदर

  2. Sachin says:

    बेहतरीन अभिव्यक्ति। शाबाश। आओ बहुत से पुल बनाएं और फिर पाट दे सभी दूरियां, असमानताएं।
    गले लग के मिटा दे सभी रूढ़ियों, ग़मो और शिकवों को।

    और हाँ क्षमा कर दो उन्हें जिन्होंने ये किया, ये तुम्हारे प्रगतिपथ पर कंकर बनने लायक भी नहीं।

  3. Dharm prakash says:

    शानदार , एक ऐसी कविता जो दलित समाज के इतिहास को बयाँ कर रही है और वर्तमान को भी समझ रही है । बहुत अच्छा लगा

  4. Darshan Singh says:

    बहुत ही सुंदर रचना और समाज की सच्चाई।

  5. Trupti says:

    Beautiful, honest expression!

  6. Shivangi dubey says:

    Kadwi sacchai ,bht hi saral shbdo me… Bht khoob beta… Hm sb Milkar bnayenge hmari dunia,jahan hm sb honge… Aur han beta,hmare purwajon ki gltiyon k liye dil se maafi mangti hu, ..tumne thik kaha k kaafi kuch bdla h pr abhi b bht kuch bdlna baaki hai , jise hm sb milkar bdlenge…..

  7. Kamal Rana says:

    Bahut acha or such bayan kiya gya h…kavita K madhyam se….good Anand…..aise hi aage badhte rho….

  8. बेहद उम्दा

  9. Khyati says:

    Wow… What a vision you have! It’s just fantastic. Beautiful poem with a deep meaning.

  10. Anand kumar says:

    Aap sabhi ka bhut bhut shukriya.

  11. Vaishali nigam says:

    बहुत सुन्दर हमारे समाज की सच्चाई चन्द लफ्जों में बयान् कर दी।

  12. Raj Anand says:

    Superb nice line

  13. Vikrant singh says:

    बेहतरीन भईया❣️

  14. Antara Mukharjee says:

    Bahut khoob bhayia…….. Bilkul sach baat likhi hai….aapne apni iss kavita mei….

  15. सटीक कथन ,एक वैकल्पिक विद्रोही दुनिया की तस्वीर भी साथ साथ खींची गई है ,बेहतर ।

  16. कमलेश सागर says:

    समाज की असंवैधानिकता को संवैधानिक शब्दों से जवाब बहुत खूबी से दिया गया है।
    अनेक शुभकामनाएं

  17. Neelam says:

    बराबरी,प्रेम,समानता और कितना कुछ है इस कविता में।
    इतनी प्यारी कविता लिखने के लिए बधाई।

  18. Vijendra Diwach says:

    आनंद भाई आपने शानदार कविता लिखी है।जो था और जो वर्तमान में चल रहा है उसको जोरदार तरीके से अभिव्यक्त किया है।आप ऐसे ही सामाजिक चिंतन करते रहें।

  19. Vijendra Diwach says:

    बहुत शानदार।

  20. Farmer Ashish Pithiya says:

    बहोत ही सरल शब्दों में विश्लेषण

  21. Anand kumar says:

    आप सभी का सराहना और आशीर्वाद देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया ।

  22. Vijendra Diwach says:

    बहुत शानदार।हकीकत लिखी है आनन्द भाई आपने।