शेर

Vimal Kumar

शेर अगर तुम्हारे साथ बैठ कर
नाश्ता करने लगे डाइनिंग टेबल पर
तो यह मत समझना कि वह आदमी बन गया है

शेर अगर तुम्हारे साथ
पिक्चर हाल में बैठकर फिल्म देखने लगे
तो यह मत समझना कि वह कोई दर्शक बन गया है .
शेर अगर तुम्हे अपनी बाहों में ले ले
फिर तुम्हे चूमने लगे तो यह मत समझ लेना कि वह तुम्हारा प्रेमी बन गया है शेर अगर किसी दिन तुम्हारा आंसू पोंछने लगे
जेब से रुमाल निकाल कर
तो यह मत समझना कि वह तुम्हारा वाकई हमदर्दबन गया है

शेर अगर अपने गले में माला डाल ले
शंख ध्वनि करने लगे मंदिर में
बजाने लगे घड़ियाल
तो यह मत समझना कि वह अब पुजारी बन गया है

शेर अगर किसी दिन चुनाव जीतकर
देश का
प्रधानमंत्रीही बन जाये
देने लगे लोकतंत्र की दुहाई
तो यह मत समझना कि वह कोई महा पुरुष बन गया है

शेर को खून का स्वाद लग चूका है
वह कितना भी विनम्र और शालीन दिखे
वह कोई दार्शनिक नहीं है एक दिन झपट्टा मार कर
तुम्हे डकार ही जायेगा