सोच

[themify_hr color=”red”] अनिश्चितता इस कदर व्याप्त हो कि ठीक ठीक कुछ भी कहना ठीक नही हो तो संभावना या प्रायिकता इस बात कि सबसे ज्यादा होती है कि किसी ज्ञात बिन्दु पर या किसी ज्ञात समय पर यदि वो ‘हाँ’ है तो तक्षण दुसरे बिन्दु या समय पर वो ‘ ना’ हो जाता है ऐसा ही कुछ कुछ यादों मे बसा हुआ ‘ सोच ‘ के साथ होता है यादों… Continue reading

जरूरी हो गया है

[themify_hr color=”red”] वो एक है अरे नही ! वो दो है नही नही वो अनेक है नही रे वो कण कण मे है वो एकमात्र है नही वो तो अंतिम है वो अनंत है,अपरंपार है वो सच्चा सत्य है नही वो सच्चा शिव है नही वो तो सच्चा सुन्दर है वो ऐसा है ,वो वैसा है वो फलाना है ,वो ढिमकाना है उसने यह किया,उसने वो किया वो यह करता… Continue reading

गिरना

धीरज गिरने की सीमा या तो सुनियोजित होती है या पूरी तरह अनियोजित तीसरा विकल्प तो उपरोक्त का निर्विकल्प ही होता है…. जब गिरने की सीमा अनियोजित होता है बहुधा ताड़ से ही गिरते है और किसी मनचाहे खजूर पर आकर अटक ही जाते है जब सुनियोजित ढंग से गिरना शुरू करते है भारशून्यता के साथ गिरते है और तब धरती भी गिरते हुए को रोक नही पाती या यूं… Continue reading

हाथी के दांत…

धीरज हाथी के दांत… खाने के अलग और दिखाने के लिए अलग होते है पर यह ….. सही नही है जनाब ! ये जो बाहर वाले चमकीले और नुकीले दांत होते है,वो डराने के लिए और जो…. भीतर वाले चौडे एवं काले दांत होते है न….. भोजन के देखकर गुपचुप गुपचुप मुस्कराने के लिए होते है सच तो यह है कि…. हाथी के असली दांत उसके पेट मे होता है… Continue reading