• Home  / 
  • छात्रवृत्तियाँ
  •  /  छात्राओं व छात्रों के लिए 100 रुपए प्रतिमाह की कम से कम 12 महीने की अवधि के लिए छात्रवृत्तियों के लिए सूचना

छात्राओं व छात्रों के लिए 100 रुपए प्रतिमाह की कम से कम 12 महीने की अवधि के लिए छात्रवृत्तियों के लिए सूचना

छात्रवृत्तियों की संख्या = 15 या अधिक
छात्रवृत्तियों की राशि = 100 रुपए प्रतिमाह कम से कम 12 महीने या अधिक

छात्रवृ्त्तियों का वर्गीकरण –

अनुसूचित जन जाति व अनुसूचित जाति वर्ग की छात्राओं के लिए = 5 छात्रवृत्तियां या अधिक
अन्य वर्ग की छात्राओं के लिए = 5 छात्रवृत्तियां या अधिक
सभी वर्गों के छात्रों के लिए = 5 छात्रवृ्त्तियां या अधिक

छात्रवृत्तियों के लिए शैक्षिक योग्यता = 9वीं, 10वीं, 11वीं व 12वीं की छात्रा या छात्र

  • छात्रवृत्तियाँ “मानसिक, सामाजिक, आर्थिक स्वराज्य की ओर” किताब के लेखक विवेक उमराव ग्लेंडेनिंग ‘सामाजिक यायावर’ की ओर से दी जा रही हैं।
  • लेखक व पुस्तक के संदर्भ में अधिक जानकारी के लिए आप वेबसाइट   http://www.books.groundreportindia.org   को देखने का कष्ट उठा सकते हैं।

.



About the author

सामाजिक यायावर

The Founder and the Chief Editor, the Ground Report India group. The Vice-Chancellor and founder, the Gokul Social University, a non-formal but the community-university. The Author of मानसिक, सामाजिक, आर्थिक स्वराज्य की ओर, this book is based on various social issues, development community practices, water, agriculture, his groundworks & efforts and conditioning of thoughts & mind. Reviewers say it is a practical book which answers “What” “Why” “How” practically for the development and social solution in India. He is an Indian citizen & permanent resident of Australia and a scholar, an author, a social-policy critic, a frequent social wayfarer, a social entrepreneur and a journalist. He has been exploring, understanding and implementing the ideas of social-economy, participatory local governance, education, citizen-media, ground-journalism, rural-journalism, freedom of expression, bureaucratic accountability, tribal development, village development, reliefs & rehabilitation, village revival and other. For Ground Report India editions, Vivek had been organising national or semi-national tours for exploring ground realities covering 5000 to 15000 kilometres in one or two months to establish Ground Report India, a constructive ground journalism platform with social accountability. Vivek U Glendenning "सामाजिक यायावर"​ MCIJ

Leave a comment: